ग्रामीण सांस्कृतिक और धार्मिक प्रतीकों के रूप में पवित्र ग्रोव पेड़ों का संरक्षण करते हैं
December 24, 2020
तालाबों के जीर्णोद्धार से हुआ कृषि का पुनरुद्धार
December 29, 2020
बावखल पुनरुद्धार

भूजल स्तर को बढ़ाने के लिए, वसई के स्वयंसेवक ने किया तालाबों का पुनर्भरण

वसई-विरार के गांवों के स्वयंसेवकों ने उन पारम्परिक तालाबों को पुनर्जीवित किया है, जो मूल रूप से सिंचाई के लिए खोदे गए थे। इसके कारण भूमिगत जल धाराओं में पानी बढ़ा है और खेती के लिए पानी की उपलब्धता बढ़ी है

भूजल में बढ़ोत्तरी और पानी का स्तर ऊपर उठाने के उद्देश्य से, भुईगांव गाँव में पारंपरिक तालाब, यानि बावखल की सफाई करते स्वयंसेवक (छायाकार - हिरेन कुमार बोस)

वसई-विरार उपक्षेत्र (वीवीएसआर) से सटे गांवों से, 1980 के दशक की शुरुआत तक, मुंबई के उपनगरों में सब्जियों की आपूर्ति होती थी। सब्जी के खेतों की सिंचाई बहुत से तालाबों (TWPs) द्वारा की जाती थी, जिन्हें स्थानीय तौर पर बावखल कहा जाता है।

इस क्षेत्र में धान बहुत उगाई जाती थी, पान का पत्ता पाकिस्तान को निर्यात किया जाता था और ऊँगली के आकार का, लेकिन बेहद मीठा ‘वेल्ची केला’, जो कि मुंबई और उपनगरों के वासियों का पसंदीदा था, ऊँचे दाम पर बेचा जाता था। तब वसई-विरार के ग्रामीणों ने अपने खेतों को छोड़कर नौकरी कर ली और खेतों की ऊंची बोली लगने का इंतजार करने लगे, ताकि सबसे ज्यादा दाम देने वाले को उन्हें बेच दें।

महानगर से लगभग 50 किमी दूर, VVSR क्षेत्र, जिसे कभी हरा फेफड़ा माना जाता था, रियल एस्टेट का ठिकाना बन गया, क्योंकि 90 के दशक के मध्य में मुंबई में आवास-कीमतें आसमान छू रही थीं। जैसे-जैसे ऊँची इमारतों ने धान के खेतों और पारिवारिक बागों की जगह ली, खेत और उनके लिए उपयोग होने वाले बावखल उजड़ गए।

भूजल को रिचार्ज करने और पानी का स्तर बढ़ाने में बावखलों के महत्त्व और पीने के पानी के स्रोतों के रूप में इस्तेमाल की उनकी क्षमता को देखते हुए, वसई-विहार के नागरिक स्वयंसेवक अब उन्हें ठीक कर रहे हैं।

अनोखा पर्यावरण

मुंबई के उत्तर में तटीय क्षेत्र में स्थित, पश्चिम में अरब सागर और पूर्व में तुंगारेश्वर हिल्स, उत्तरी सीमा में वैतरणा नदी और दक्षिण में वसई खाड़ी से घिरी, वसई-विरार की जुड़वाँ बस्ती का एक अनोखा पर्यावरण चरित्र है – इसके खाड़ी और तट के निकट होने के अलावा, दूर दूर तक फैले हुए दलदली भूभाग।

205 वर्षों से अधिक पुर्तगालियों ने वसई या बैसीन (तब बाकायम या Bacaim) पर शासन किया, और वसई किले का निर्माण, कॉलेजों, कॉन्वेंट स्कूलों और चर्चों की स्थापना करके, जिनमें से ज्यादातर अभी भी कार्य कर रहे हैं, इसे एक जीवंत और समृद्ध शहर बना दिया। इस क्षेत्र का पर्यावरण तंत्र भी उतना ही अनोखा है, जितना इसका राजनीतिक इतिहास।

पर्यावरण सम्बन्धी मुद्दों पर काम करने वाली एक एनजीओ, पर्यावरण संवर्द्धन समिति के मैकेंज़ी डाबरे ने  VillageSquare.in को बताया – “अर्नाला के तट से वसई तक की, 18 किमी की परिधि, भारत के लिए अनोखी है, क्योंकि यह झीलों, तालाबों और बावखलों का घर है। हालांकि समुद्र के करीब, जल श्रोतों में पानी खारा है, जोकि भूमिगत रूप से जुड़े होते हैं, एक-दूसरे का पोषण करते हैं, जबकि इस क्षेत्र में वर्षा भरपूर होती है।”

वसई के इस जैसे बहुत से पारम्परिक तालाब जर्जर अवस्था में हैं और उनका उपयोग नहीं हो रहा (छायाकार – हिरेन कुमार बोस)

पारम्परिक तालाब

बावखल एक सदियों पुरानी जल व्यवस्था है, जो समुन्द्र तट के गांवों की वाड़ियों (बागों और सब्जियों के खेतों) में पाई जाती हैं। देखने में जंगल के एक जल-कुंड जैसा, जिसके किनारे स्थानीय पेड़ों से घिरे होते हैं, बावखल 5 से 60 सदस्यों के परिवारों की संपत्ति होती है।

भावखल किसानों की सिंचाई जरूरतों को पूरा करते थे। आम तालाबों के विपरीत, भावखल का उपयोग कभी भी स्नान या कपड़े धोने या घरेलू जरूरतों को पूरा करने के लिए नहीं किया जाता। उनका इस्तेमाल सिर्फ सिंचाई के लिए और भूजल को रिचार्ज करने के लिए किया जाता था।

वे असीमित भूमिगत जलधाराओं से जुड़ते हैं और यदि संरक्षण और उपयोग सही हो, तो भूजल स्तर को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण रिचार्ज क्षेत्र के रूप में काम कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए भूमिगत जलधाराओं की सुरक्षा के साथ-साथ, क्षेत्र के एकमात्र पेयजल स्रोत के संरक्षण के लिए, बड़े पैमाने पर संरक्षण-प्रयासों की जरूरत है।

इस सम्बन्ध में, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के पूर्व छात्र और वसई निवासी, सचिन मार्टी के नेतृत्व वाले एक गैर सरकारी संगठन, युवा विकास संस्थान (वाईवीएस) की देखरेख में  कुछ नागरिकीय सोच वाले पेशेवरों, वरिष्ठ नागरिकों और छात्रों द्वारा कार्य शुरू किया गया है।

बावखलों का दस्तावेजीकरण 

बावखलों की संख्या, भौतिक स्थिति, उपयोग और भौगोलिक घनत्व के संदर्भ में, कोई रिकॉर्ड नहीं है। झीलों सहित वसई-विरार के जलश्रोतों का उल्लेख पहली बार फादर फ्रांसिस कोरिया द्वारा लिखित ‘सम्वेदी बोलिभाषा’ नामक पुस्तक में किया गया था, जो 80 के दशक के शुरू में प्रकाशित हुई थी।

बाद में एक नागरिक पहल के प्रकाशन, जिसका शीर्षक था – “वाटर क्राइसिस इन वसई: ए स्टडी”, में कहा गया कि अर्नाला और मालोंड के बीच और अचोल और उमेल के बीच, 60 किमी के दायरे में 108 झीलें थीं, जिनमें से केवल 28 बची थीं। बावखल का दस्तावेजीकरण शायद ही किया गया था, लेकिन 2007 में लघु सिंचाई विभाग द्वारा किए गए सर्वेक्षण में, 27 ग्राम पंचायतों में 479 बावखलों के अस्तित्व की पहचान की गई थी।

फिर भी, बावखलों की वास्तविक संख्या आधिकारिक रिकॉर्ड में दिखाई गई संख्या से अधिक होने की संभावना है। YVS द्वारा 2013 में रिकॉर्ड में मौजूद दो गांवों में किए गए सर्वेक्षण में, बावखल अधिक पाए गए। उदाहरण के लिए, भुईगांव गाँव में रिकॉर्ड में दी गई संख्या 16 थी, जबकि असल में ये 39 पाए गए, नंदाखल में 32 की बजाय 55 और वाघोली में 16 की बजाय 54 थे।

मार्टी ने VillageSquare.in को बताया – “क्षेत्र में मीठे पानी के सीमित जलाशयों को ध्यान में रखते हुए, यह उचित होगा कि इन पर एक विस्तृत अध्ययन किया जाए, ताकि ताजे और खारे पानी के बीच तालमेल के संतुलन को प्रभावित किए बिना, निकासी के लिए उपलब्ध मीठे पानी की उपयुक्त मात्रा का अनुमान लगाया जा सके।”

सचिन मार्टी और कई दूसरे निवासियों ने भुईगांव गाँव जैसे पारम्परिक तालाबों को पुनर्जीवित किया है (छायाकार – हिरेन कुमार बोस)

बावखल पुनरुद्धार

शहरीकरण के लिए एक कीमत चुकानी पड़ी है और बावखलों को सामुदायिक कचरा-भंडारों में बदल दिया गया है, जिससे बैक्टीरिया और रासायनिक प्रदूषण जैसे भूजल सम्बन्धी गंभीर गुणवत्ता के मुद्दों के अलावा, इसकी जल-स्रोत और जल पुनर्भरण क्षेत्र के रूप में क्षमता को कम कर दिया है।

YVS संदोर, वाघोली और भुईगांव गाँवों में, कई बावखलों को साफ करने और संरक्षित करने में सहायक रहा है। स्वयंसेवकों को कुछ गाँवों के निवासियों का सहयोग नहीं मिलता। वे साधनों की कमी न होने के बावजूद, सफाई के खर्च का मामूली हिस्सा देने के लिए तैयार नहीं थे।

एक शिक्षक, फेलिक्स डिसूजा का कहना था – “लोगों को संरक्षण के प्रयासों में भाग लेने के लिए प्रेरित करना मुश्किल था, क्योंकि उन्हें लगता था कि बावखल की उनके जीवन में कोई भूमिका नहीं है। हमने नुक्कड़ नाटक किए, डोर-टू-डोर अभियान आयोजित किए और इन्हें बचाने के महत्व के बारे में समझाने के लिए हमारे प्रयासों में सहयोग के लिए, स्थानीय पंचों को साथ लिया।”

उनके प्रयासों के कारण भुईगांव में एक बावखल की मरम्मत की गई, जिसका इस्तेमाल 30 परिवारों द्वारा किया जा रहा है। डिसूजा ने VillageSquare.in को बताया – “इसमें आर्थिक सहयोग मुख्य रूप से पंचायत द्वारा दिया गया और ग्रामवासियों ने इसमें सहयोग किया।”

पानी की प्रचूरता के लिए

झीलों, तालाबों और बावखलों के होने के बावजूद, वसई-विरार क्षेत्र की 13 लाख की आबादी (2012 के अनुसार) की प्यास, टैंकरों और बोरवेल द्वारा बुझाई जाती है। यहां तक ​​कि पापलखिण्ड और पेल्हर नाम के दो नजदीकी बांध भी पानी की मांग को पूरा करने में विफल हैं।

वास्तव में, मुंबई-अहमदाबाद राजमार्ग के प्लॉटों से खींचकर 1.5 करोड़ लीटर पानी टैंकरों और बोरवेलों द्वारा उपलब्ध कराया जाता है। ऐसे ग्रामीण हैं जो अपने खेतों में ‘रिवर्स ऑस्मोसिस प्लांट’ लगाकर, आवासीय कॉलोनियों और व्यावसायिक संस्थानों को पानी की आपूर्ति करते हुए, जल-उद्यमी बन गए हैं।

पंचायत राज संस्थाओं द्वारा मालिकों को आर्थिक सहायता के साथ, बावखलों को बचाने की जरूरत पर जोर देते हुए, मार्टी कहते हैं – “यदि हम बावखलों को पुनर्जीवित कर सके, तो खेतों वाले ग्रामीण खेतों में सब्जियां उगा सकेंगे, पशुपालन कर सकेंगे और यहां तक ​​कि मछली पालन और फूलों की खेती शुरू कर सकेंगे। उन्हें अपनी उपज को बेचने के लिए दूर बाजार नहीं जाना होगा, क्योंकि स्थानीय स्तर पर ही उनकी बड़ी मांग होगी।”

वर्ष 2011 में काम करना शुरू करके, YVS ने अब तक पांच गांवों में फैले आठ बावखलों को साफ और संरक्षित करने में मदद की है, जिसके परिणामस्वरूप कुओं में पानी के स्तर में वृद्धि हुई है और कुल घुले हुए ठोस पदार्थ (TDS) की मात्रा 750 पीपीएम से घटकर 300 पीपीएम रह गई है। बावखलों की कुल 479 संख्या को देखते हुए, जल-प्रचुरता प्राप्त करने के लिए, बहुत कुछ किए जाने की जरूरत है।

हिरेन कुमार बोस महाराष्ट्र के ठाणे में स्थित एक पत्रकार हैं। वह सप्ताहांत में एक किसान के रूप में काम करते हैं। विचार व्यक्तिगत हैं।

Comments are closed.