प्रशासकों को उम्मीद है कि सिमलीपाल की जनजातियाँ खुश की जा सकेंगी
April 22, 2021
नर्मदा बांध के जल भराव क्षेत्र और दुर्गम पहाड़ियों के बीच, विकास के लिए छटपटाते समुदाय को, महामारी ने प्रस्तुत की बेहतर जीवन की संभावनाएं
April 29, 2021
झील संरक्षण

प्रदूषण को रोक कर, समुदाय ने झील को साफ रखा

सभी प्रकार के निवारण उपायों को अपनाकर, समुदाय सुनिश्चित करता है, कि समृद्ध जैव विविधता वाली त्सोंगो झील, जो सिक्किम का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, स्वच्छ और प्रदूषण मुक्त रहे।

झील संरक्षण समिति निवारक उपायों से यह सुनिश्चित करती है, कि पर्यटक कूड़ा फैलाकर झील को प्रदूषित न करें (फोटो - TPSS के सौजन्य से)

संगे लामा शेरपा सिक्किम की त्सोंगो झील की उत्पत्ति के बारे में लोक कथा सुनाते हैं – “बहुत समय पहले, यह एक विशाल घाटी थी, जहाँ याक चरवाहे अपने पशुओं को चराते थे। एक दिन, एक चरवाहे के सपने में एक बूढ़ी औरत आई, और उन्हें चले जाने के लिए कहा, क्योंकि वहां एक झील आने वाली थी। उसके साथी चरवाहों ने उसके सपने पर विश्वास नहीं किया।”

वह कहते हैं – “वह अकेला ही उस जगह से चला गया। उस शाम, अचानक एक विशालकाय झील बन गई। चरवाहे और उनके याक झील में डूब गए।” त्सोंगो झील, जिसे चंगु के नाम से भी जाना जाता है, 12,406 फीट की ऊंचाई पर स्थित है, और पूर्वी हिमालयी राज्य, सिक्किम की सबसे बड़े पर्यटन-आकर्षणों में से एक है, जहाँ हर साल लगभग 3 लाख पर्यटक आते हैं।

शेरपा थेगु में रहते हैं, जो चंगु और चिपसु के साथ मिलकर, चंगु झील के आसपास त्रिकोण बनाते हैं। 37 वर्षीय शेरपा, एक दशक से अधिक समय पहले बनी त्सोंगो झील संरक्षण समिति, ‘त्सोंगो पोखरी संरक्षण समिति (TPSS)’ के कार्यालय सचिव की भूमिका में झील के संरक्षण में शामिल हैं।

शेरपा बताते हैं – “हम बचपन से ही लोककथा सुनते आ रहे हैं। हमारे गांव के बुजुर्गों का कहना है कि झील की रक्षा करना और उसे साफ रखना हमारा कर्तव्य है। अन्यथा, ग्रामीणों को विपत्ति का सामना करना पड़ सकता है, जैसे कहानी में उन याक चरवाहों के साथ हुआ था। यह एक ऐसी बात है, जिसे हर ग्रामवासी मानता ​​है और वे झील को साफ रखने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं।”

क्योंकि ज्यादा ऊंचाई और कठोर जलवायु क्षेत्र होने के कारण यह क्षेत्र कृषि एक लिए अनुपयुक्त है, स्थानीय आबादी, जिसमें मुख्य रूप से शेरपा, लेप्चा और भूटिया जैसे समुदाय शामिल हैं, अपनी आजीविका के लिए लगभग पूरी तरह से त्सोंगो झील की ईको-पर्यटन क्षमता पर निर्भर करते हैं। हालांकि पर्यटन से स्थानीय लोगों को राजस्व प्राप्त हुआ है, लेकिन इसने त्सोंगो झील और जैव विविधता से समृद्ध इसके आसपास के क्षेत्रों को दूषित भी किया है।

वर्ष 2008 में, झील को ख़राब होने से बचाने के उद्देश्य से, WWF-इंडिया जैसे संगठनों के सहयोग से सिक्किम सरकार के वन विभाग के दिशानिर्देशों के आधार पर, TPSS का गठन किया गया। तब से TPSS झील की संरक्षक रही है।

पर्यटक आकर्षण

त्सोंगो झील गंगटोक-नाथु ला राजमार्ग पर पूर्वी सिक्किम जिले में स्थित है और प्राचीन दक्षिणी ‘सिल्क-रूट’ का एक हिस्सा है, जो भारत को चीन से जोड़ने वाला व्यापार मार्ग है। भूटिया भाषा में, त्सो का अर्थ झील है, जबकि म्गो का अर्थ सिर है, अर्थात झील का स्रोत।

कड़ी पहाड़ियों से घिरी, बर्फीली अंडाकार झील, सर्दियों में बर्फ से ढकी रहती है। अपनी लुभावनी सुंदरता के अलावा, यह स्थान सुविधाजनक होना झील पर्यटकों में इतनी लोकप्रिय होने का दूसरा कारण है। यह सिक्किम की राजधानी गंगटोक से लगभग 40 किमी दूर है।

झील से लगभग 16 किलोमीटर दूर, एक और लोकप्रिय पर्यटन स्थल नाथू ला दर्रा है, जो भारत और चीन के बीच तीन खुली व्यापारिक सीमा चौकियों में से एक है। शेरपा कहते हैं – “यह क्षेत्र पर्यटकों में इतना लोकप्रिय इसलिए है, क्योंकि वे चंगु झील, बाबा का मंदिर (भारतीय सैनिक हरभजन सिंह की स्मृति में निर्मित एक मंदिर, जो 1968 में नाथू ला के पास शहीद हो गए थे) और नाथू ला, सभी का भ्रमण करके उसी दिन गंगटोक लौट सकते हैं।”

पोखरी संरक्षण समिति का जन्म

इस प्रकार, यह सुविधा और लोकप्रियता पर्यटकों की भीड़ के साथ आई है, जिसका झील पर हानिकारक प्रभाव पड़ा है। 11 अगस्त, 2006 को, वन विभाग ने झील संरक्षण के लिए दिशानिर्देशों को स्पष्ट करते हुए एक राजपत्रित अधिसूचना जारी की।

अधिसूचना के बाद, सिक्किम के वन विभाग द्वारा गठित और अधिसूचित होने वाली पहली झील संरक्षण समिति, TPSS थी।

झील संरक्षण समिति एक सामुदायिक पहल है, जिससे यह सुनिश्चित हुआ कि त्सोंगो साफ रहे (फोटो – TPSS के सौजन्य से)

इसके तुरंत बाद, TPSS को तकनीकी सहयोग और कार्य योजना बनाने और प्रारूप तैयार करने में सहायता प्रदान करने के लिए, WWF-इंडिया साथ आया। खांगचेंदज़ोंगा लैंडस्केप, WWF-इंडिया के लैंडस्केप समन्वयक, लक्तशेडेन कहते हैं – “2007 में, जब हमने मुआयना किया, तो हमने पाया कि झील के इर्द गिर्द से रसोई-कचरा सीधे झील में जा रहा है। इसके अलावा, झील के आसपास खुले में शौच और कूड़ा था। ”

TPSS में कार्यकारी सदस्यों के रूप में विभिन्न ज्ञान-क्षेत्र के प्रतिनिधि हैं। TPSS के अध्यक्ष, रिन्ज़िंग डोमा कहते हैं – “दिशानिर्देशों के अनुसार, हम प्रत्येक पर्यटक से झील संरक्षण शुल्क के रूप में 10 रुपये इकठ्ठा करते हैं। फीस को TPSS के रिवॉल्विंग फंड अकाउंट में जमा किया जाता है। इसका 50% राज्य पर्यावरण एजेंसी को हस्तांतरित कर दिया जाता है और बाकी का उपयोग त्सोंगो झील के संरक्षण के लिए किया जाता है।”

जब TPSS का गठन किया जा रहा था, तब शेरपा नौकरी की तलाश कर रहे थे। “मुझे कार्यालय सचिव के पद का प्रस्ताव मिला। क्योंकि मेरी झील के संरक्षण में दिलचस्पी थी, मैंने प्रस्ताव स्वीकार कर लिया।” उनकी मुख्य भूमिका सरकार और समुदाय के बीच सेतु का काम करना, जागरूकता कार्यक्रमों की देखरेख करना, खातों का रखरखाव और अन्य हितधारकों के साथ समन्वय करना है।

चंगु का कायापलट

जब अधिक ऊंचाई वाले त्सोंगो जैसे झील/तालाब प्रदूषित होते हैं, तो यह सिक्किम के लिए पानी के स्रोत को ही दूषित कर देता है। सिक्किम की सेवानिवृत्त प्रमुख मुख्य अनुसंधान अधिकारी (वन्यजीव) और अधिक ऊंचाई वाली आर्द्रभूमि और जैव-विविधता की विशेषज्ञ, उषा लाचुंग्पा बताती हैं – “अधिक ऊँचाई वाली आर्द्रभूमि सिक्किम के संपूर्ण नदी-प्रणाली के लिए जल भंडार हैं। ये झील/तालाब पानी का मुख्य भंडार हैं और यदि वे प्रदूषित हो जाते हैं, तो पूरा जल स्रोत दूषित हो जाता है।”

चंगु में, हालांकि क्षेत्र में स्थाई भवन निर्माण की अनुमति नहीं होने के कारण, पर्यटकों के लिए कोई ठहरने की सुविधा नहीं है, लेकिन झील के पास एक शॉपिंग-कॉम्प्लेक्स है, जो पर्यटकों को सेवाएं प्रदान करता है। यहां प्रमुख मांग फास्ट फूड दुकान की है, जो प्रदूषण का मुख्य स्रोत है।

शेरपा बताते हैं – “शॉपिंग कॉम्प्लेक्स झील के ऊपर स्थित था, जिससे इसका कूड़ा सीधे झील में बहता था। इसलिए हमने काम्प्लेक्स को चंगु झील से 100 मीटर नीचे एक स्थान पर स्थानांतरित कर दिया, जिससे इन दुकानों के कचरे को झील में आने से रोक दिया। अब हम पर्यटकों को कचरा-थैली भी देते हैं, ताकि वे कचरा सड़क पर न फेंके।”

उन्होंने आगे कहा – “हमने कप-नूडल्स की बिक्री भी बंद कर दी, जो इस क्षेत्र में सबसे ज्यादा बिखेरी जाने वाली चीज थी। और हमने पैक पेयजल के इस्तेमाल में कटौती करने के उद्देश्य से, दुकानों पर पानी के फिल्टर वितरित किए। विश्व पर्यावरण दिवस और विश्व जल दिवस जैसे अवसरों पर TPSS जागरूकता का आयोजन करती है। क्योंकि कुछ प्रदूषण झील के आसपास सवारी के लिए इस्तेमाल याक के शौच से होता था, हमने याक सवारी संघ (याक राइडर्स एसोसिएशन) से इस मुद्दे पर चर्चा की। अब याक का गोबर साफ करने के लिए उन्होंने दो लोगों को काम पर रखा है।”

एक दुकानदार, जो TPSS के लिए पोखरी रक्षक (झील रक्षक) के रूप में काम भी करती हैं, चम्बा शेरपा का कहना है – “हम झील के आस-पड़ोस को रोजाना दो बार साफ करते हैं। कूड़ा फिर रिकवरी केंद्र में ले जाया जाता है। वहां, इसकी छंटाई की जाती है और पेट बोतलों, टेट्रापैक डिब्बों, धातुओं, आदि जैसी रीसायकल योग्य वस्तुओं को अलग किया जाता है और कबाड़ डीलरों के माध्यम से रीसाइक्लिंग के लिए भेजा जाता है।”

एकत्र किए गए कचरे को छंटाई और रीसाइक्लिंग के लिए रिकवरी केंद्र ले जाया जाता है (फोटो – TPSS के सौजन्य से)

हालांकि दिशा निर्देशों के अनुसार, TPSS के पास कूड़ा फ़ैलाने वाले पर्यटकों से पकड़े जाने पर जुर्माना वसूलने का अधिकार है, लेकिन शेरपा कहते हैं कि वे ऐसा कभी नहीं करते। उनका कहना है – “हम जुर्माना इकठ्ठा करने की बजाय, पर्यटकों के बीच जागरूकता पैदा करने की कोशिश करते हैं। आजकल, पर्यटक भी पहले की तुलना में बहुत ज्यादा जागरूक हैं, हालांकि इतने सारे पर्यटकों के बीच, आपको कोई न कोई उद्दंड समूह मिल ही जाता है।”

चंगु की जैव-विविधता

गंगटोक से चंगु जाते समय, पहले ‘क्योंगनोसला अल्पाइन’ अभयारण्य को पार करना पड़ता है। क्योंगनोसला और चंगु एक ही जलग्रहण क्षेत्र का हिस्सा हैं और यह स्थान अपनी अद्वितीय जैव विविधता के लिए जाना जाता है। क्योंगनोसला लाल पांडा और रक्त तीतर का घर है, जो क्रमशः सिक्किम का राज्य पशु और राज्य पक्षी हैं। तिब्बती लोमड़ी, हिमालयी काले भालू, सीरो (एक तरह की पहाड़ी बकरी), कस्तूरी मृग, हिमालयन गोरल (एक किस्म का हिरण), आदि जानवर भी वहाँ पाए जाते हैं। चंगु झील अपनी चकवा-चकवी (ruddy shelduck), जिसे ब्रह्मिणी बतख के नाम से भी जाना जाता है, की आबादी के लिए भी प्रसिद्ध है।

क्षेत्र की जैव विविधता के बारे में, लाचुंग्पा कहती हैं – “चंगु झील स्थानीय पक्षियों के साथ-साथ, कई प्रवासी पक्षियों के लिए भी रुकने का स्थान है। वनस्पतियों की विविधता भी बहुत समृद्ध है।” हालांकि वह चेतावनी देती है कि क्षेत्र के वन्यजीव, आवारा जंगली कुत्तों के रूप में गंभीर खतरे का सामना कर रहे हैं।

इस बीच, झील के संरक्षक के रूप में TPSS के साथ, चंगु में पर्यटन और संरक्षण का सिलसिला जारी है। एक दशक से ज्यादा के उनके प्रयासों को सिक्किम सरकार के पर्यटन विभाग ने भी मान्यता दी है, जिसने चंगु के लिए 2013 में उन्हें ‘सर्वश्रेष्ठ स्वच्छ पर्यटक स्थल पुरस्कार’ से सम्मानित किया।

TPSS के काम का खुलासा करते हुए, उनके पूर्व सदस्य-सचिव कर्मा भूटिया कहते हैं – “वन विभाग को TPSS के काम की निगरानी करने और जरूरत पड़ने पर मार्गदर्शन प्रदान करने की आवश्यकता है। लेकिन कुल मिलाकर, TPSS का कामकाज बहुत सुचारू रहा है और यह समुदाय-संचालित मॉडल की सफलता का एक आदर्श उदाहरण है।”

नबरुन गुहा असम में स्थित एक स्वतंत्र पत्रकार हैं। विचार व्यक्तिगत हैं।

यह लेख मूल रूप से ‘मोंगाबे इंडिया’ में प्रकाशित हुआ था।

Comments are closed.

Array ( [marginTop] => 0 [pageid] => [alignment] => left [width] => 292 [height] => 300 [color_scheme] => light [header] => header [footer] => footer [border] => true [scrollbar] => scrollbar [linkcolor] => #2EA2CC )
Please Fill Out The TW Feeds Slider Configuration First