April 28, 2020

“आशा” बांट रही हैं जीवन की आशा

कोरोना महामारी ने जहाँ आम जनता को घरों तक सीमित कर दिया है, आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता जोखिम उठाकर भी मातृ एवं शिशु सुरक्षा के अपने दायित्व के साथ-साथ, कोरोना के खिलाफ भी रात दिन संघर्ष कर रही हैं

April 23, 2020

कोरोना महामारी के बाद कैसे कम किया जाए ग्रामीण भारत का दर्द

राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान और महामारी के बाद, ग्रामीण संकट के स्रोतों को समझते हुए, ग्रामीण नागरिकों की पीड़ा को कम करने वाले उपायों की आवश्यकता है

April 21, 2020

लॉकडाउन के दौरान किसानों और उपभोक्ताओं के बीच सेतु बनी किसान उत्पादक कंपनी

परिवहन व्यवस्था नहीं होने से, एक ओर किसानों की उपज नहीं बिकी, वहीं उपभोक्ताओं को सब्जियां नहीं मिल रही थी। विशेष अनुमति प्राप्त करके और ऑर्डर के लिए एक मोबाइल ऐप की सहायता से एक नवाचार-परक फार्मर्स प्रोड्यूसर कंपनी (एफपीसी) ने दोनों जरूरतों को पूरा किया है

April 13, 2020

‘कोरोना‘ ग्रामीण भारत और उसकी अर्थव्यवस्था को कैसे प्रभावित करेगा

लॉकडाउन के प्रभाव से शहरों में कोई आर्थिक गतिविधियां न होने के कारण, जो प्रवासी अपने मूल गांवों में वापिस आए हैं और गाँवों में रहने वाले मजदूरों के लिए आगामी महीने तकलीफदेह होंगे