August 4, 2020

बिहार के दलितों को अनाज बैंक ने दी, भूख के डर से मुक्ति

बिहार में पटना जिले के कई क्षेत्रों में, समुदाय द्वारा प्रबंधित चावल बैंकों की सहायता से, कमी वाले मौसम में भोजन सुनिश्चित करके, शक्तिशाली जमींदारों के शोषण से सैकड़ों दलित परिवारों को मुक्ति मिली है।

July 30, 2020

गुजारे लायक खेती से एग्रोफोरेस्ट्री (कृषि-वन) और समृद्धि तक

तमिलनाडु में पुदुकोट्टई जिले के दक्षिणी इलाकों में किसानों ने अपनी आमदनी बढ़ाने के लिए एग्रोफोरेस्ट्री की ओर रुख किया, क्योंकि गिरते भूजल स्तर और रासायनिक खाद और कीटनाशकों के अत्यधिक उपयोग ने क्षेत्र में कृषि को गैर-व्यावहारिक बना दिया है

July 28, 2020

क्या एक नुकीला कुदाल एक मोती में छेद कर सकता है?

ग्रामीण भारत में समाज के बिखरे और अलग-थलग किए वंचित समूहों तक कल्याणकारी सेवाएं पहुंचाने में गंभीर चुनौतियां हैं, और इनसे निपटने के लिए सरकारी-तंत्र सक्षम नहीं है।

March 16, 2020

अविकसित क्षेत्रों के विकास की बाधा – कुशल पेशेवरों का अभाव!

भारत के बेहद अविकसित मध्य और पूर्वी पहाड़ी आदिवासी क्षेत्रों में सेवाएँ प्रदान करने वाले अध्यापक और स्वास्थ्य-कर्मियों जैसे जमीनी-स्तर के कुशल पेशेवर बहुत कम हैं। यह एक ऐसी समस्या है, जिसका कोई आसान समाधान भी नहीं है।