October 2, 2020

केवल उपेक्षित भारत गाँवों में रहता है!

महात्मा गांधी के जन्मदिवस के अवसर पर, ग्रामीण भारत पर एक नज़र डालने पर पता चलता है कि हम उनके ‘आत्मनिर्भर गाँव’ के आदर्शों से बहुत पीछे रह गए हैं। इसका एक कारण आधुनिक समय में बदली हुई आकांक्षाएँ हैं।

August 13, 2020

ग्रामीण भारत को एक संशोधित एनजीओ क्षेत्र की आवश्यकता है

गैर-सरकारी क्षेत्र में समय की आवश्यकता है, कि सरकार ठीक काम न करने वाले गैर-सरकारी संगठनों (एन.जी.ओ.) पर पारदर्शितापूर्ण नियंत्रण रखे और उन संगठनों एवं उनकी टीमों को सम्मान देते हुए सहयोग प्रदान करे, जो ग्रामीण विकास के लिए सकारात्मक योगदान देते हैं

August 4, 2020

बिहार के दलितों को अनाज बैंक ने दी, भूख के डर से मुक्ति

बिहार में पटना जिले के कई क्षेत्रों में, समुदाय द्वारा प्रबंधित चावल बैंकों की सहायता से, कमी वाले मौसम में भोजन सुनिश्चित करके, शक्तिशाली जमींदारों के शोषण से सैकड़ों दलित परिवारों को मुक्ति मिली है।

July 30, 2020

गुजारे लायक खेती से एग्रोफोरेस्ट्री (कृषि-वन) और समृद्धि तक

तमिलनाडु में पुदुकोट्टई जिले के दक्षिणी इलाकों में किसानों ने अपनी आमदनी बढ़ाने के लिए एग्रोफोरेस्ट्री की ओर रुख किया, क्योंकि गिरते भूजल स्तर और रासायनिक खाद और कीटनाशकों के अत्यधिक उपयोग ने क्षेत्र में कृषि को गैर-व्यावहारिक बना दिया है