संजीव फंसालकर
April 15, 2021

क्या हैंडलूम व्यावहारिक रूप से लाभदायक ग्रामीण आजीविका प्रदान कर सकता है?

कुछ न कुछ कारण हैं, कि ग्रामीण हैंडलूम (हथकरघा) क्षेत्र की ओर से मुँह नहीं मोड़ा जा सकता। पूर्वोत्तर भारत से हम सीख सकते हैं कि कैसे कारिगरीपूर्ण-बुनाई आज भी आजीविका का एक आकर्षक विकल्प हो सकता है

October 27, 2020

ग्रामीण भारत में हैंडलूम क्या केवल गरीबी बुनने में सक्षम हैं?

हमें इस बात पर विचार करने की जरूरत है, कि जो कभी ख़ुशियाँ, संस्कृति और आय बुनता था, वो हैंडलूम (हथकरघा) क्यों आज केवल गरीबी बुनता है? यदि कुछेक बाहरी तत्वों को छोड़ दें, तो यह क्यों हमारे ग्रामीण लोगों की आजीविका को बनाए रखने में असमर्थ है?

May 14, 2020

डिजाइनर सुनिश्चित कर रहे हैं कि हथकरघा बुनकरों का शारीरिक और आर्थिक स्वास्थ्य बना रहे

हैंडलूम कारीगरों के साथ काम करने वाले फैशन डिजाइनर सुनिश्चित करते हैं कि लॉकडाउन के दौरान काम की कमी के बावजूद उनकी आर्थिक जरूरतें पूरी हों, और साथ ही उनके संपर्क में रहकर उनका मनोबल ऊंचा रखते हैं

March 9, 2020

बुनना भविष्य को, मीटर दर मीटर !

असम के बोडोलैंड के गाँवों में, जहाँ हर बोडो घर में एक करघा है, श्यामा ब्रह्मा बुनाई से ठीक-ठाक आय अर्जित करती हैं, और इस लुप्त होते इस पारंपरिक कौशल को अपनी बेटियों को सौंपने की कोशिश कर रही हैं

Array ( [marginTop] => 0 [pageid] => [alignment] => left [width] => 292 [height] => 300 [color_scheme] => light [header] => header [footer] => footer [border] => true [scrollbar] => scrollbar [linkcolor] => #2EA2CC )
Please Fill Out The TW Feeds Slider Configuration First