संजीव फंसालकर
April 15, 2021

क्या हैंडलूम व्यावहारिक रूप से लाभदायक ग्रामीण आजीविका प्रदान कर सकता है?

कुछ न कुछ कारण हैं, कि ग्रामीण हैंडलूम (हथकरघा) क्षेत्र की ओर से मुँह नहीं मोड़ा जा सकता। पूर्वोत्तर भारत से हम सीख सकते हैं कि कैसे कारिगरीपूर्ण-बुनाई आज भी आजीविका का एक आकर्षक विकल्प हो सकता है

February 18, 2021

ग्रामीण भारत में सूक्ष्म उद्यमों के व्यापक होते क्षेत्र

आजीविका की व्यापक मांग को पूरा करने के लिए, गाँवों में सूक्ष्म उद्यमों को बढ़ावा देने के लिए, वैसे अलग स्तर के विचारों से लाभ होगा, जो पापड़ और अचार बनाने जैसी साधारण गतिविधियों से हटकर हों

February 11, 2021

गरीबों के बीच टेक्नोलॉजी (प्रौद्योगिकी) का तेजी से प्रसार कैसे किया जाए?

पूरे भारत में मोबाइल फोन और संबंधित दूरसंचार व्यवस्था का बेहतरीन प्रसार से, एक महत्वपूर्ण समझ प्रदान करता है, कि ग्रामीण गरीबों तक नवीनतम टेक्नोलॉजी को कैसे तेज गति से पहुंचाया जा सकता है, और उसकी प्रति यूनिट लागत को उपयुक्त किया जा सकता है

February 2, 2021

ग्रामीण पुरुषों को एहसास होना चाहिए, कि महिलाओं को एकांत स्नान-स्थलों की जरूरत होती है

ग्रामीण इलाकों में महिलाओं का खुले में स्नान करना काफी आम बात है, जिसे बदलने की जरूरत है। ऐसा हो, इसके लिए पुरुषों की मानसिकता और मुद्दे के प्रति उनकी संवेदनहीनता का बदलना महत्वपूर्ण है

Array ( [marginTop] => 0 [pageid] => [alignment] => left [width] => 292 [height] => 300 [color_scheme] => light [header] => header [footer] => footer [border] => true [scrollbar] => scrollbar [linkcolor] => #2EA2CC )
Please Fill Out The TW Feeds Slider Configuration First