संजीव फंसालकर
October 2, 2020

केवल उपेक्षित भारत गाँवों में रहता है!

महात्मा गांधी के जन्मदिवस के अवसर पर, ग्रामीण भारत पर एक नज़र डालने पर पता चलता है कि हम उनके ‘आत्मनिर्भर गाँव’ के आदर्शों से बहुत पीछे रह गए हैं। इसका एक कारण आधुनिक समय में बदली हुई आकांक्षाएँ हैं।

September 22, 2020

पारंपरिक फड़ सिंचाई व्यवस्था के चैंपियन को श्रद्धांजलि

महाराष्ट्र की एक पारम्परिक सिंचाई प्रबंधन व्यवस्था, फड़, अस्त-व्यस्त हो गई। एक विकास कर्मी सुनील पोते ने इसे पुनर्जीवित किया, जिससे अनेक किसान अपनी भूमि की सिंचाई कर सके और उनकी आय में वृद्धि हुई

September 15, 2020

कॉकरोचों और डिजिटल स्वास्थ्य दस्तावेजों के लिए

भले ही डिजिटल स्वास्थ्य नीति और स्वास्थ्य दस्तावेजों का प्रस्तावित डिजिटल-करण कागज पर अच्छा दिखता हो, लेकिन इसके प्रभावी होने के लिए, बुनियादी ग्रामीण स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं को का ठीक काम करना जरूरी है

August 20, 2020

गरीबी के विरुद्ध सबसे मजबूत उपाय है, जल नियंत्रण

जब एक बार हम यह समझ लेते हैं कि एक ही उपाय हर स्थिति में कारगर नहीं होता, तो सरकार और नागरिक समाज संगठनों के लिए, देश के विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों में जल प्रबंधन की स्थिति-अनुसार वैसी रणनीति बनाना आसान होगा, जो सही मायनों में ग्रामीण गरीबों को लाभान्वित कर सके