संजीव फंसालकर
January 14, 2021

जल के लिए, निर्माण की बजाय खुदाई कहीं बेहतर है

सूखाग्रस्त मराठवाड़ा से कुछ बेहतरीन उदाहरणों से सीख कर, सरकारी कार्यक्रमों के अंतर्गत, पानी की पर्याप्तता के लिए, महंगे ढांचों के निर्माण की बजाय, तालाब खोदने और नदी-नालों को गहरा करने में समझदारी है।

January 7, 2021

जब कल्याण-योजनाओं को लूट लेता है, ग्रामीण संभ्रांत वर्ग

हालाँकि ग्रामीण कल्याण कार्यक्रमों के निष्पक्ष कार्यान्वयन में कई कारण बाधक हैं, लेकिन ग्रामीण संभ्रांत वर्ग और अक्सर उनसे मिले हुए स्थानीय प्रशासन के शिकंजे को तोड़ना महत्वपूर्ण है

December 31, 2020

गरीब किसानों के लिए छोटे पम्प एक व्यवहारिक समाधान हैं

हालाँकि सिंचाई के लिए छोटे पम्पों पर उतना ध्यान नहीं दिया जाता, जितना दिया जाना चाहिए, लेकिन असम, झारखंड और ओडिशा जैसे भूजल-संपन्न राज्यों के सबूत यह दिखाते हैं, कि उनके छोटे और सीमांत किसानों के लिए महत्वपूर्ण लाभ हैं

November 24, 2020

पितृसत्ता, स्थिरता और लज्जा

ग्रामीण विकास के मौजूदा मॉडल की रूपरेखाओं में, जेंडर-लैंस का अभाव है, जो महिलाओं को उनकी सीमांकित भूमिका में छोड़ देता है, और इस दिशा में प्रगति या सशक्तिकरण कहीं दिखाई नहीं पड़ता