August 18, 2020

आजीविका के नुक्सान के चलते भूमिहीन परिवारों को लॉकडाउन का भुगतना पड़ रहा है खामियाजा

भूमिहीन आदिवासी समुदायों के उद्यमी ग्रामवासियों ने आजीविका के दूसरे तरीके अपनाए। लॉकडाउन में ढील के बावजूद, मौजूदा चुनौतियां उन्हें गरीबी की ओर धकेल रही हैं

July 21, 2020

लौटे प्रवासी: निराशा और सामंजस्य

काम के स्थान (शहर) की दूरी, नियोक्ता (मालिक) की नौकरी देने की प्रतिबद्धता और मूल गाँव में आजीविका के अवसर, लौट कर आए प्रवासियों के फैसले का आधार हैं, कि वे लॉकडाउन समाप्ति के बाद प्रवास करें या नहीं। तब तक वे उपलब्ध संसाधनों से ही सामंजस्य बैठाते हैं