चित्रा अजित
March 9, 2021

पौधा-नर्सरी से महिलाओं को प्राप्त हुई सफलता और सशक्तिकरण

एक समूह के रूप में साथ आकर और पौधों की नर्सरी लगा कर, साहूकारों द्वारा शोषित महिलाओं ने अपने परिवारों को खिलाने और देखभाल के लिए अधिक कमाई की

October 6, 2020

ग्रामीण भारत में ग्राम संगठन कैसे बदलाव लाते हैं

एक समूह के रूप में एकजुट होने से, महिलाओं को अपने संकोच से बाहर आने और व्यक्तिगत विकास एवं भेदभाव के विरुद्ध आवाज बुलंद करने में सहायता मिलती है

September 17, 2020

बंगाल की महिलाओं ने टर्की में पाई एक व्यवाहरिक आजीविका

बाधाओं और स्व-रोजगार की परियोजनाओं की विफलता पर काबू पाते हुए, महिला स्व-सहायता समूहों के सदस्यों ने दृढ़ता से काम जारी रखा और टर्की पालन को अपनाकर एक सफल आजीविका के लिए रुझान हासिल किया

September 8, 2020

लॉकडाउन सम्बन्धी आर्थिक राहत प्राप्त करने में, ‘बैंक सखियों’ ने की ग्रामीणों की मदद

जिन गाँवों में बैंकिंग सुविधाओं का अभाव है, वहां बैंक के प्रतिनिधियों के रूप में, बैंकिंग अभिकर्ता संबंधित कार्य करते हैं। लाभार्थियों तक लॉकडाउन कल्याण सहायता पहुँचाने में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है

Array ( [marginTop] => 0 [pageid] => [alignment] => left [width] => 292 [height] => 300 [color_scheme] => light [header] => header [footer] => footer [border] => true [scrollbar] => scrollbar [linkcolor] => #2EA2CC )
Please Fill Out The TW Feeds Slider Configuration First