दीपान्विता गीता नियोगी
May 27, 2021

जंगल-जंगल घूम सकेंगे छत्तीसगढ़ के वन्यजीव, तैयार होगा हरा-भरा वन गलियारा

छत्तीसगढ़ में 121 वन्यजीव गलियारों को चिन्हित किया गया है। इनमें से 14 गलियारों को विशेष तौर पर चुना गया है। ये गलियारे एक जंगल को दूसरे से जोड़ेंगे ताकि वन्यजीव आसानी से आवागमन कर सकें। इस काम को मुंबई स्थित एक गैर लाभकारी संस्थान की मदद से किया जा रहा है। प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद बाघ के अलावा दूसरे वन्यजीव भी निर्भिक होकर जंगल-जंगल घूम सकेंगे।

March 25, 2021

जनजातियाँ पारम्परिक सांस्कृतिक केंद्रों के पुनरुद्धार का स्वागत करती हैं

घोटुल, जहाँ युवा पारम्परिक रूप से जिम्मेदारियाँ निभाना सीखते थे, कई कारणों से पतन का शिकार हो गई। जनजातियों का मानना है कि सरकार की उन्हें पुनर्जीवित करने की योजना से जनजातीय संस्कृति को बचाए रखेगी

February 25, 2021

किशोरियाँ पूर्ण सशक्तिकरण की दिशा में आगे बढ़ी

दमनकारी नियम-कायदों ने किशोरियों को खराब स्वास्थ्य और शीघ्र विवाह की ओर धकेल दिया। समूहों में एक साथ लाने से, उन्हें अपने स्वास्थ्य में सुधार करने, बाल विवाह को रोकने और व्यावसायिक कौशल सीखने में मदद मिली है

February 16, 2021

उथले (कम गहरे) झरनों के पुनरुद्धार से गॉंवों की पानी की जरूरतें पूरी हुई

कभी पीने के पानी के बारहमासी श्रोत रहे प्राकृतिक झरने, जिन्हें झिरिया कहा जाता है, गायब होने लगे। पुनर्जीवित और संरक्षित झरनों के पानी को अब छाना और नलों के माध्यम से वितरित किया जाता है

Array ( [marginTop] => 0 [pageid] => [alignment] => left [width] => 292 [height] => 300 [color_scheme] => light [header] => header [footer] => footer [border] => true [scrollbar] => scrollbar [linkcolor] => #2EA2CC )
Please Fill Out The TW Feeds Slider Configuration First