संजीव फंसालकर
December 31, 2020

गरीब किसानों के लिए छोटे पम्प एक व्यवहारिक समाधान हैं

हालाँकि सिंचाई के लिए छोटे पम्पों पर उतना ध्यान नहीं दिया जाता, जितना दिया जाना चाहिए, लेकिन असम, झारखंड और ओडिशा जैसे भूजल-संपन्न राज्यों के सबूत यह दिखाते हैं, कि उनके छोटे और सीमांत किसानों के लिए महत्वपूर्ण लाभ हैं

December 22, 2020

मलकानगिरी शिशु मृत्यु: बीमारी या कुपोषण?

ओडिशा के मलकानगिरी जिले में बच्चों की बड़ी संख्या में मृत्यु के लिए, आधिकारिक तौर पर जापानी इंसेफेलाइटिस (दिमागी बुखार) और मलेरिया को जिम्मेदार ठहराया गया है, लेकिन ग्रामवासियों और नागरिक समाज संगठनों का कहना है, कि इन टाली जा सकने वाली मौतों में कुपोषण का योगदान दिया है

November 17, 2020

घर के बगीचों द्वारा ओडिशा की महिलाओं ने किया कुपोषण से मुकाबला

ओडिशा के संकटग्रस्त और कुपोषित क्षेत्रों में, महिलाएं अपने परिवार को जैविक सब्जियां और फलियां खिलाने के लिए, साल भर लगातार, बिना किसी अतिरिक्त लागत के पोषण उद्यान लगा रही हैं।

August 18, 2020

सुंदरगढ़ की आदिवासी महिलाओं ने जैविक खेती को अपने जीवन को बदलने वाली आर्थिक गतिविधि बना लिया

ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले के आदिवासी समुदायों ने रासायनिक खाद के बिना, खाद्य उत्पादन की परम्परागत पद्यति को पुनर्जीवित किया है और इसमें व्यावहारिक बदलाव करके आर्थिक रूप से लाभदायक बनाया है।

Array ( [marginTop] => 0 [pageid] => [alignment] => left [width] => 292 [height] => 300 [color_scheme] => light [header] => header [footer] => footer [border] => true [scrollbar] => scrollbar [linkcolor] => #2EA2CC )
Please Fill Out The TW Feeds Slider Configuration First